वो

कुछ करने की चाह मे वो डूबता चला गया
टूटता चला गया,
वो छूटता चला गया, खुद मे ही कहीं।

Advertisements